ALL हिमाचल-पंजाब-लेह लद्दाख-कश्मीर विजय पथ-सम्पादकीय-लेख-खास रपट हरियाणा- राजस्थान उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड-बिहार दिल्ली सोनभद्र-मिर्ज़ापुर राजनीति-व्यापार-सिनेमा-समाज-खेती बारी देश-विदेश मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़-झारखंड लोकल साथी
ग्लेशियर और भूस्खलन से बद्रीनाथ पाट खोलने की तैयारी में आ रही अड़चन
April 23, 2020 • Vijay Shukla • देश-विदेश

ग्लेशियर और भूस्खलन से बद्रीनाथ पाट खोलने की तैयारी में आ रही अड़चन

पण्डित विनय शर्मा

लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया 

हरिद्वार। लॉक डाउन और कोरोना महामारी के बीच चारधाम यात्रा की तैयारी पर मौसम की मार पड़ रही है। बदरीनाथ धाम में जगह जगह ग्लेशियर जहां खतरा बने हुए हैं, वहीं भूस्खलन से आवाजाही मे दिक्कत हो रही है। कंचनगंगा के पास भारी बोल्डर आने से धाम तक आवाजाही ठप हो गई है। इधर, धाम में सेनेटाइजेशन के साथ रंगाई-पुताई समेत अन्य व्यवस्था जुटाने का काम शुरू हो गया है।

  • पाण्डुकेशर से आगे कई जगह ग्लेशियर बन रहे आवाजाही में बाधक
  • कंचनगंगा हाईवे पर भूस्खलन से तैयारी को जा रहे लोगों को उठानी पड़ रही परेशानी
  • धाम में रंग-रोगन के साथ सेनेटाइजेशन का हो रहा काम


लॉक डाउन के चलते भगवान बदरीनाथ के कपाट खुलने की तिथि बदली गई। अब कपाट 30 अप्रैल की जगह 15 मई को खुलेंगे। ऐसे में धाम में जरूरी सुविधाएं जुटाना प्रशासन के लिए चुनौती ही है। हालांकि इस बार कोरोना काल के चलते शुरुआत में भीड़ कम हो, पर  सरकार अपनी तैयारी में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहती। यही कारण है कि देवस्थानम बोर्ड और मंदिर समिति सभी तैयारी में जुट गई है। इस बार धाम में भारी बर्फबारी होने के कारण तैयारी में कुछ मुश्किलें उठानी पड़ रही है। खासकर रास्ते में भारी ग्लेशियर आने से आवाजाही में खतरा बना हुआ है। ग्लेशियर तेजी से सड़क को अवरुद्ध कर रहे हैं। इससे धाम तक जरूरी सामान और मशीनरी पहुंचाने में दिक्कतें उठानी पड़ रही है। जबकि बर्फबारी से हुए नुकसान को समय पर दुरुस्त करना भी कठिन है। इसके अलावा भूस्खलन का खतरा हाईवे पर जगह जगह बरकरार है। गुरुवार को कंचनगंगा में भारी भूस्खलन से आवाजाही बाधित हो गई। इससे आने जाने में लोगों को भारी दिक्कतें उठानी पड़ी। बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग 58 कंचनगंगा के समीप भारी भूस्खलन के चलते बंद पड़ा हुआ है। एनएच की टीम मार्ग खोलने में जुटी है।भूस्खलन ज्यादा होने के कारण कल तक मार्ग खुलने की उम्मीद जताई जा रही है। इस समय बद्रीनाथ धाम के कपाट खोलने की तैयारियां जोरों पर है और जरूरी सामान को बद्रीनाथ धाम तक पहुंचना है। ऐसे में मार्ग बंद हो गया है जो कि और भी परेशानी का सबब बनता जा रहा है।


15 मई को खुलने है कपाट


देहरादून। भगवान बद्रीविशाल के कपाट अब तय तिथि के बाद 15 मई को खोले जाएंगे। यह इतिहास में आज तक का सबसे बड़ा परिवर्तन है। भगवान बद्रीविशाल के कपाट खुलने की तैयारियां देवस्थानम बोर्ड के द्वारा शुरू कर दी गई है। बद्रीनाथ धाम के अधिशासी अधिकारी विपिन तिवारी ने बताया किि बद्रीनाथ मंदिर पर रंग समेेे दूसरे काम शुरू कर दिया है। वहीं धाम में बिजली ,पानी की व्यवस्था को दूरस्थ कर दिया गया है और बर्फ साफ करने का कार्य भी जारी है बद्रीनाथ धाम के मंदिर परिसर में 5 फीट बर्फ गिरी हुई है। जिसको साफ करने का कार्य इस समय चल रहा है। मंदिर के आसपास हलांकि बर्फ पिघल चुकी है। अब कुछ कुछ जगहों पर बर्फ दिखाई दे रही है। साकेत चौराहा से लेकर मुख्य चौराहा तक बर्फ को साफ करने में बीआरओ की मशीन लगाई गई। जिसको अब पूर्ण रूप से साफ कर दिया गया है।