ALL हिमाचल-पंजाब-लेह लद्दाख-कश्मीर विजय पथ-सम्पादकीय-लेख-खास रपट हरियाणा- राजस्थान उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड-बिहार दिल्ली सोनभद्र-मिर्ज़ापुर राजनीति-व्यापार-सिनेमा-समाज-खेती बारी देश-विदेश मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़-झारखंड लोकल साथी
जब शासन प्रशासन नही ले रहा सुध तो ग्रामीणों ने ख़ुद बंदरो की समस्या से निजात पाने के लिए अपनाया अनूठा तरीक़ा
September 27, 2020 • Vijay Shukla • सोनभद्र-मिर्ज़ापुर

जब शासन प्रशासन नही ले रहा सुध तो ग्रामीणों ने ख़ुद बंदरो की समस्या से निजात पाने के लिए अपनाया अनूठा तरीक़ा

कन्हैयालाल यादव

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया

नगवां ब्लॉक।  रायपुर थाना क्षेत्र व विकास  खंड नगवाँ के ग्राम पंचायत वैनी और दुबेपुर में बंदरो का आतंक चरम पर है।  
आए दिन किसी न किसी ग्रामीण को ये अपना शिकार बनाते रहते हैं। एक दो महीने के भीतर दर्जनों लोगों को काट चुके यहाँ सैकड़ों बंदर ग़रीबों का आशियाना  तक उजाड़ दे रहे हैं। 

बंदरो से क्षुब्ध होकर यहाँ  सैकड़ों नागरिक स्थानीय युवा पवन पटेल, धीरेंद्र पटेल, चौधरी रंजित सिंह के नेतृत्व में सड़क पर उतरकर विरोध प्रदर्शन करते हुए ज़िम्मेदार सम्बंधित अधिकारियों से माँग किया  कि वे हिंसक हो चुके इन बंदरो का पंद्रह दिन के अंदर कोई प्रबंध करे, अन्यथा यहाँ के ग्रामीण लाठी, डंडे, गुलेल और पटाखों  का इस्तेमाल करके इनको ख़ुद भगाने के लिए बाध्य होंगे। 

इस विरोध प्रदर्शन में स्थानीय व्यापारियों की अगुआई कर रहे अवधेश सोनी,अजित पटेल, मुकेश जायसवाल "पोंटी", ने कहा कि यदि जंगल विभाग ग्रामीणों की नही सुनेगा तो यहाँ के व्यापारी अनिश्चित काल के लिए अपना दुकान या प्रतिस्ठान बंद करने के लिए बाध्य होंगे। 

इस विरोध प्रदर्शन में प्रमुख रूप से गोपाल बीडीसी, महेंद्र जायसवाल, अनुराग गुप्ता,आलोक सेठ, आलोक गुप्ता, अखिलेश पटेल, कुशाल विश्वाश, रूपेश पटेल, राजेश पटेल,मनीष पटेल इत्यादि ग्रामीण मौजूद रहे।