ALL हिमाचल-पंजाब-लेह लद्दाख-कश्मीर विजय पथ-सम्पादकीय-लेख-खास रपट हरियाणा- राजस्थान उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड-बिहार दिल्ली सोनभद्र-मिर्ज़ापुर राजनीति-व्यापार-सिनेमा-समाज-खेती बारी देश-विदेश मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़-झारखंड लोकल साथी
संस्कृति विवि ही नहीं सारे देश के बच्चे उठाएंगे ज्ञान का लाभ
November 1, 2020 • Vijay Shukla • उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड-बिहार

संस्कृति विवि ही नहीं सारे देश के बच्चे उठाएंगे ज्ञान का लाभ

विवि द्वारा शुरू किया जा रहा है दो नवंबर से ओरियंटेशन प्रोग्राम

संस्कृति विवि के ओरियंटेशन प्रोग्राम की जानकारी देते विवि के कुलपति प्रोफेसर सीएस दुबे।

रिटायर्ड लेफ्टिनेंट बच्चू सिंह 

लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया 

मथुरा। संस्कृति विश्वविद्यालय दो नवंबर से आनलाइन ओरियंटेशन प्रोग्राम शुरू करने जा रहा है। यह जूम, फेसबुक जैसे प्लेटफार्म पर ब्रज क्षेत्र ही नहीं सारे देश के विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध होगा। पांच नवंबर तक चलने वाले इस प्रोग्राम में देश और अंतर्राष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त विषय विशेषज्ञ अपने अनुभवों और ज्ञान से विद्यार्थियों के ज्ञान को बढ़ाएंगे साथ ही विपरीत समय में अपनी शिक्षा और कैरियर को किस तरह से उन्नत कर सकें इसके बारे में भी विस्तार से प्रकाश डालेंगे।

संस्कृति विवि के कुलपति प्रोफेसर सीएस दुबे ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए कहा कि संस्कृति विश्वविद्यालय का उद्देश्य पूरे ब्रज क्षेत्र के विद्यार्थियों के विकास का है। विवि चाहता है कि क्षेत्र के हर विद्यार्थी के ज्ञान के स्तर में वृद्धि हो। यही सोचकर हमने कार्यक्रमों की लंबी श्रंखला शुरू करने की योजना बनाई है। इसके पहले चरण में जो 2 नवंबर से शुरू होकर पांच नवंबर तक चलेगा, आनलाइन एप्स के माध्यम से अतंर्राष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त विद्वानों के लेक्चर होंगे। इन विषय विशेषज्ञों में एमेजान इंटरनेट सर्विसेज के प्रमुख अमित नेवतिया लेटेस्ट टेक्नोलाजी ट्रेंड, आर्टिफिशयल इंटेलीजेंस के बारे, आईसीआरसी-नार्डिक्स डब्लूएसपी के प्रमुख इफ्तिखार द्रबु, सफलता के मंत्र, प्रोफेसर क्रिस्टीन गुसमाओ फेडरल युनिवर्सिटी आफ परनाम्बुको, टेक्नोलाजी के बारे में, फीस्टर वेंचर प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ एवं को फाउंडर, सफलता के मत्र, आईपीएस डा. संदीप मित्तल, भविष्य के नेतृत्व, टोक्यो युनिवर्सिटी आफ साइंस जापान के इंटरनेशलन डिवीजन के मैनेजर डा. देवेंद्र नरायण, सफलता के मंत्र समझाएंगे।

प्रोफेसर दुबे ने बताया कि दो नवंबर से हर दिन 40-40 मिनट के दो सत्र होंगे। इन सत्रों में एक-एक विशेषज्ञ का उद्बोधन होगा। इन विशेषज्ञों के लेक्चर का हर विद्यार्थी लाभ उठा सके इसके लिए विश्वविद्यालय युद्धस्तर पर प्रयास कर रहा है। सभी विद्यार्थियों को लिंक भेजे जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये विशेषज्ञ वर्तमान में शिक्षण कार्य में आ रही परेशानियों का सामना कैसे करें, अपने कैरियर के उत्थान के लिए क्या कदम उठाएं, विदेशों में शिक्षा कार्य कोविड-19 के चलते किस तरह से चल रहा जैसे विषयों की जानकारी से विद्यार्थी अवगत हो सकेंगे।