ALL हिमाचल-पंजाब-लेह लद्दाख-कश्मीर विजय पथ-सम्पादकीय-लेख-खास रपट हरियाणा- राजस्थान उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड-बिहार दिल्ली सोनभद्र-मिर्ज़ापुर राजनीति-व्यापार-सिनेमा-समाज-खेती बारी देश-विदेश मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़-झारखंड लोकल साथी
स्वदेशी अपना देश को आत्मनिर्भर बनाएं: नवीन गोयल
November 10, 2020 • Vijay Shukla • हरियाणा- राजस्थान

स्वदेशी अपना देश को आत्मनिर्भर बनाएं: नवीन गोयल

अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने को लोकल को अपनाना जरूरी
आम जनता को सरकार का सहयोग देने की अपील

ऋतू सैनी 

लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया 

गुरुग्राम। भारतीय जनता पार्टी के जिला सचिव नवीन गोयल ने कहा कि त्योहारी सीजन है। हर घर में सजावट से लेकर अन्य वस्तुओं की खरीदारी हो रही है। ऐसे में हमें यह ध्यान रखना है कि हम स्वदेशी सामान की खरीदारी अधिक से अधिक करके अपने देश को मजबूती दें। स्वदेशी अपनाकर देश को आत्मनिर्भर बनाएं। सरकार भी स्वदेशी को बढ़ावा दे रही है। स्वदेशी को सिर्फ त्योहारी रीत ना बनाकर हम अपने दैनिक जीवन का इसे हिस्सा बनाएं। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार देश की जनता से लोकल फॉर वोकल का संदेश दे रहे हैं।
नवीन गोयल ने कहा कि आज भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संदेश दिया है कि लोकल के लिए वोकल बनें। हर कोई लोकल वस्तुओं को अपनाकर दीवाली मनाए। फिर पूरी अर्थव्यवस्था में नई चेतना आ जाएगी। प्रधानमंत्री ने साफ कहा है कि लोकल के लिए वोकल बनने का अर्थ सिर्फ दीये खरीदना नहीं है। नवीन गोयल के मुताबिक इस बार दीवाली पर ज्यादातर सामान भारत में निर्मित है और लोग इसे खरीद रहे हैं। हमें आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए यह जरूरी है कि हम भारत में बनी वस्तुओं का दैनिक जीवन में उपयोग करें। इस दीवाली हमें रोशनी के लिए मिट्टी के दीयों का इस्तेमाल करें, ताकि मिट्टी के बर्तन बनाने वालों के काम को भी गति मिल सके। हमारे इस प्रयास से उनके घरों में भी दीवाली रोशन होगी। उन्होंने कहा कि स्वदेशी अपनाकर आत्मनिर्भर भारत बनाने के साथ हमें हरियाली की तरफ भी ध्यान देना होगा।


दीवाली पर विशेषकर एनसीआर में पटाखे चलाने पर लगाए गए बैन को सही ठहराते हुए इसे जनहित में बताया है। उन्होंने कहा कि पटाखों के धुएं में खुशियां तलाशने की बजाए हमें दीवाली पर्व पर सिर्फ और सिर्फ मिठाइयां, ड्राई फ्रूट्स एक-दूसरे को भेंट करने चाहिए। वह भी कोविड19 के नियमों का पालन करते हुए। ऐसे त्योहार मनाएं कि हमारी संस्कृति भी जिंदा रहे और हमारा जीवन भी खतरे में ना पड़े। पटाखों से पर्यावरण प्रदूषित होने का मतलब यही है कि हम अपने जीवन से खिलवाड़ कर रहे हैं। प्रदूषण के मामले में गुरुग्राम की विश्व स्तर पर रैकिंग होती है। इसलिए हमें अपने गुरुग्राम समेत पूरे हरियाणा को प्रदूषण से बचाना है।